Saturday, July 3, 2010

कभी कभी सोचता हूँ

कभी सोचता हूँ
कि मैं  कौन हो
कभी सोचता हूँ
कि इस दुनिया का फलसफा क्या है
कभी सोचता हूँ
कि तू कौन है
कभी सोचता हूँ
कि तुझसे मेरा रिश्ता क्या है
कभी सोचता हूँ
कि मोहोब्बत क्या है
कभी सोचता हूँ 
कि इन बातो में रखा क्या है
कभी सोचता हूँ 
कि मैं कौन हो ..............................?

6 comments:

  1. asa ji aap to bade lekha ho gai hai commets ke liye ek din me 2 post bhi dal dete ho

    ReplyDelete
  2. Aaj to tere comment ka pitara khali hai bhi

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन! बहुत खूब!

    बाहर मानसून का मौसम है,
    लेकिन हरिभूमि पर
    हमारा राजनैतिक मानसून
    बरस रहा है।
    आज का दिन वैसे भी खास है,
    बंद का दिन है और हर नेता
    इसी मानसून के लिए
    तरस रहा है।

    मानसून का मूंड है इसलिए
    इसकी बरसात हमने
    अपने ब्लॉग
    प्रेम रस
    पर भी कर दी है।
    राजनैतिक गर्मी का मज़ा लेना
    इसे पढ़ कर यह मत सोचना
    कि आज सर्दी है!

    मेरा व्यंग्य: बहार राजनैतिक मानसून की

    ReplyDelete
  5. शाह नवाज़ भाई आपका शुक्रिया आपके शब्दों का इंतजार था

    ReplyDelete